क्या हो तुम

ये हो, वो हो, आखिर, क्या हो तुम मेरे लिए, तुम चाँद हो, मैं चांदनी, तुम फूल मैं, भंवरा, तुम पेड़, मैं जड़ तम्हारी, तुम घर में, नींव तम्हारी, तुम नाव, मैं पतवार, तुम आर मैं, पार, तुम सुबह, मैं शाम, तुम सूरज, मैं रोशनी, तुम इक किनारा, मैं नदी, तुम हो पानी, मैं आग, … Continue reading क्या हो तुम