नाम मेरा आशिफ़ा!

5 thoughts on “नाम मेरा आशिफ़ा!”

  1. नाम आशिफ़ा न होता तो सुनीता होता ,मैरी होता ,तो भी यही होता ,
    क्योंकि शेतान हर मज़हब में होता है,
    मगर शैतान का कोई मज़हब नहीं होता….!!

    Liked by 3 people

  2. वक्त-ऐ-दौर ऐसा हो चला है कि ये भी मुमकिन है कि कोई शब्दो को भी धर्म के चश्मे पहनकर देखता हो…..

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s